बारह मुखी रुद्राक्ष

Posted on 9 Comments

बारह मुखी रुद्राक्ष भगवान महाविष्णु का स्वरुप माना गया है | बारह आदित्यों का तेज इस रुद्राक्ष में सम्माहित है इसलिए भगवान सूर्य देव की विशेष कृपा का भी पात्र है यह रुद्राक्ष |

बारह मुखी रुद्राक्ष के लाभ

ह्रदय रोग, उदार रोग व मस्तिष्क से सम्बन्धित रोगों में इस रुद्राक्ष को धारण करने से लाभ हो सकता है ऐसा कई ग्रन्थों में लिखा मिलता है | बारह मुखी रुद्राक्ष को कंठ में या कान के कुण्डल में धारण करने से भगवान विष्णु व सूर्य देव दोनों ही अति प्रसन्न होते हैं | इस रुद्राक्ष को द्वादश आदित्यों की कृपा प्राप्त होने से अश्वमेघ यज्ञ सहित कई यज्ञों का फल प्राप्त होता है | बारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने से तन और मन स्वस्थ होते हैं और एक विशेष प्रकार की शक्ति उत्पन्न होती है | राजनीति व सरकारी क्षेत्रों में काम करने वाले जातकों के लिए बारह मुखी रुद्राक्ष अति उत्तम माना गया है | यह रुद्राक्ष क्षत्रुओं का नाश करके व्याधियों का नाश करके सूर्य आदि ग्रहों के कमज़ोर प्रभाव को नष्ट करके सभी प्रकार के सुखों की प्राप्ति करवाता है इसलिए इस रुद्राक्ष को सभी को धारण करना चाहिए |

बारह मुखी रुद्राक्ष

असली, शुद्ध एवं लैब प्रमाणित बारह मुखी रुद्राक्ष पेंडंट मात्र ₹4,999/- से शरू

बारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र

इस रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “ॐ क्रोम श्रोम रोम नमः” है | इस मंत्र की तीन माला या “ॐ नमः शिवाय” मंत्र की पांच माला या मृत्युंजय मंत्र की एक माला नित्य प्रति करने से समस्त प्रकार के रोगों से व समस्याओं से मुक्ति प्राप्त की जा सकती है और लाभान्वित हुआ जा सकता है अतः सभी को भगवान सूर्य और भगवान विष्णु के स्वरुप रूपी बारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए |

Click 12 Mukhi Rudraksha to read this article in English.

Descriptions for products are taken from scripture, written and oral tradition. Products are not intended to diagnose, treat, cure, or prevent any disease or condition. We make no claim of supernatural effects. All items sold as curios only.

अगर आप बारह मुखी रुद्राक्ष से सम्बन्धित कोई भी जानकारी हमसे शेयर करना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए कमेन्ट बॉक्स में लिखें |

Share it on social media..

9 thoughts on “बारह मुखी रुद्राक्ष

  1. kab 12 mukhi rudraksh dharan karna chahiye aur kab nahi dharan karna chahiye.

  2. Mera name mansingh h
    Or me panch mukhi Rudraks daran krna chahiy ya 12 mukhi rudraks daran karna chahiy

  3. i have a question .

    can we wear both 5muki and 12 muki rudrash together?

    1. Yes you can

    2. Kya 12 mukhi rudraks k sath gorishankar rudrakh bhi dharan kr skte h . Kya iske bhi laabh honge

  4. Plz suggest vidhi of 12 mukhe rudraksh Kab aur Kaise phnney

  5. Kab aur Kaise dharan karey 12 mukhe rudrakhs

  6. बारह मुखी रूद्राक्ष राशि फल के हिसाब से सिंह राशि का जोड़ बताओ

    1. kab 12 mukhi rudraksh dharan karna chahiye aur kab nahi dharan karna chahiye.

Leave a Reply

Your email address will not be published.