Posted on 6 Comments

गणेश रुद्राक्ष

जैसा की आप सभी जानते हैं कि गणेश भगवान शिव और पार्वती के पुत्र हैं इसलिए गणेश रुद्राक्ष को विशेष रूप से शिव और शक्ति दोनों का ही आशीर्वाद प्राप्त है |

गणेश रुद्राक्ष के लाभ

भगवान गणेश के जन्म के पश्चात शिव और पार्वती के अतिरिक्त स्वर्ग के सभी देवी देवताओं ने उन्हें आशीर्वाद प्रदान किया था कि आप सभी ब्रह्माण्ड वासियों के विघन हरने में सक्षम हो तभी से भगवान गणेश को विघन हरता भगवान माना गया है अतः गणेश रुद्राक्ष स्पष्ट रूप से भगवान गणेश का स्वरुप होने के कारण से सभी प्रकार के विघन हरने में सहायक होता है | सभी प्रकार के भूत प्रेत भगवान शिव के अनुयायी होने के कारण से सभी की गणपति भगवान को विशेष कृपा प्राप्त है इसलिए गणेश रुद्राक्ष धारण करने से सभी प्रकार की उपरी बाधाएं शीघ्र उस शरीर को छोड़ देती हैं |

गणेश रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र

इस रुद्राक्ष को धारण करने का मन्त्र “ॐ नमः शिवाय” या “ॐ गं गणपतय नमः” है | 32 दानों की माला इस रुद्राक्ष की धारण करके “ॐ गं गणपतय नमः” मन्त्र का यदि जाप किया जाए तो जीवन के समस्त विघन धीरे धीरे कम होते चले जाते हैं ऐसा कई ग्रंथों में लिखा है अतः स्त्री, पुरुष, नौकरी करने वाले या व्यापारी, राजनेता, कलाकार या सरकारी अफसर सभी को इस रुद्राक्ष को धारण करके अधिक से अधिक लाभ उठाना चाहिए |

To read this article in English, please click Ganesh Rudraksha


*Descriptions for products are taken from scripture, written and oral tradition. Products are not intended to diagnose, treat, cure, or prevent any disease or condition. We make no claim of supernatural effects. All items sold as curios only.

अगर आप गणेश रुद्राक्ष से सम्बन्धित कोई भी जानकारी हमसे शेयर करना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए कमेन्ट बॉक्स में लिखें |

6 thoughts on “गणेश रुद्राक्ष

  1. I have seen 8 mukhi Rudraksh on Amazon. I am not sure if Rudraksh has slightly broken or not. Can you help me regarding this? I want to talk to you, so please give me your contact number or call me on +919099666690 as quick as possible.

    Thank You.

  2. Ganesh rudraksh

  3. Rudrakhsh ganesh

  4. Sir kumbh rashi kanya rashi mithun rashi ko koun sa rudrach pehna chhiy

  5. Kundali mein yadi budh 6th bhav mein sun and Saturn ke saath esthith ho to budh ki mahadasha mein budh ke shubh phal prapta Marne ke liye Ganesh Rudraksh sharab karna kaisa hoga

  6. Kundali mein yadi budh 6th bhav mein sun and Saturn ke saath esthith ho to budh ki mahadasha mein budh ke shubh phal prapta karne ke liye Ganesh Rudraksh sharab karna kaisa hoga

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *