Leave a comment

माता पिता की सेवा

सर्वतीर्थमयी माता सर्वदेवमयः पिता, मातरम् पितरम तस्मात् सर्वयत्नेन पूज्येत |

अर्थात माता में सभी तीर्थों का वास है और तीर्थों की पवित्रता से भी अधिक पवित्र माता होती है | इसी प्रकार पिता में सभी देवता प्रतिष्ठित है | देवता पत्थरों में कम और माता पिता के चरणों में अधिक बसते हैं | इसलिए जितनी अधिक हो सके माता पिता की सेवा करनी चाहिए | वैसे भी हिन्दू संस्कृति में पुत्र के लिए अपने माता पिता की सेवा एवं उनकी आज्ञा का पालन करना महत्वपूर्ण माना गया है | इसे सर्वश्रेष्ठ धर्म माना गया है | ग्रंथों में भी कहा गया है कि मात्रदेवो भव | पितृ देवो भव | आचार्य देवो भव |

अर्थात माता पिता एवं आचार्य को देवता मानने वाले बनो | पदमपुराण नामक ग्रन्थ में तो यहाँ तक लिखा है कि जो पुत्र कटू शब्दों द्वारा माता पिता की निंदा करता है और दुखी तथा रोग से पीड़ित एवं वृद्ध माता पिता का त्याग करता, है उस पुत्र को नरक में जाने से और नरक रूपी जीवन जीने से कोई देवता भी नहीं बचा सकता | दूसरी ओर माता पिता की सेवा करने वालों की सद्गति एवं सुख प्राप्त करने के हजारों प्रमाण हमारे शास्त्रों में भरे पड़े है |

पिता धर्मः पिता स्वर्गः पिता ही परमं तपः |

पितरीं प्रितिमापन्ने प्रीयन्ते सर्वदेवताः |

पिता ही धर्म है, पिता ही स्वर्ग है और पिता ही सर्वश्रेष्ठ तपस्या है | पिता के प्रसन्न हो जाने पर देवता स्वयं प्रसन्न हो जाते है | माता पिता की सेवा से नित्यप्रति गंगा स्नान का फल प्राप्त होता है | संत तुलसीदास जी ने भी कहा है कि मातु पिता गुर प्रभु के वाणी | बिनहिं विचार करिए शुभ जानी |

अर्थात माता पिता की सेवा जीवन पर्यन्त तो करनी ही चाहिए अपितु उनके मरने के पश्चात् उनके श्राद्ध एवं तर्पण आदि कार्य करना भी नितान्त आवश्यक परम धर्म माना गया है | पितरों के श्राद्ध एवं तर्पण का फल भी तो पुत्र को ही मिलता है इसमें कोई सन्देह नहीं है | अतः सभी को अपने माता पिता की सेवा करनी चाहिए मार्कंडय पुराण में भी तो यही लिखा आया है |

Posted on 2 Comments

13 Mukhi Rudraksha

13 Mukhi Rudraksha is the symbol of the King of Heaven i.e Lord Indra. This bead is blessed by KamDev so it fulfills all the desires of the wearer.

Benefits of 13 Mukhi Rudraksha

13 Mukhi Rudraksha helps in destroying impoverishment and poverty and the wearer attains all kinds of pleasures in life. It is considered as an appropriate bead for Spiritual Enlightenment. It also has the ability to attract men and women and thus is helpful in mesmerism. It is beneficial for household happiness. 13 Mukhi Rudraksha is also worn to reduce the malefic effects of unfavourable planets and to increase the effects of favourable planets. As this bead is also blessed with the grace of MahaLaxmi, it has a special effect on Planet Venus (Shukra). As mentioned in various Ancient Texts, 13 Mukhi Rudraksha had a positive effect in retrievement of Heaven by Lord Indra. High Rank Officials and people who are in field of art should definitely wear a 13 Mukhi Rudraksha and if one can wear a 12 & 14 Mukhi Rudraksha with it then excellent result can be achieved as 12, 13 & 14 Mukhi is an excellent combination. According to MahaShivPuran, as this bead is the form of Kamdev, those who are facing lack of love and happiness in their life should definitely wear this bead. Everyone should wear this bead and everyone should regularly enchant the beej mantra of Lord Shiva so that one can get the maximum benefit in life.

Mantra for wearing 13 Mukhi Rudraksha

The mantra to wear this bead is “OM HREEM NAMAH”. After wearing it, one should enchant 5 rosaries of the above mentioned mantra or 5 rosaries of “OM NAMAH SHIVAYA” everyday to get rid of all sins and to get all luxuries and pleasures in life.

यह लेख हिन्दी में पढने के लिए क्लिक करें तेरह मुखी रुद्राक्ष |


*Descriptions for products are taken from scripture, written and oral tradition. Products are not intended to diagnose, treat, cure, or prevent any disease or condition. We make no claim of supernatural effects. All items sold as curios only.

If you would like to share anything else regarding 13 Mukhi Rudraksha, please feel free to write in the comments sections below.

3 Comments

तेरह मुखी रुद्राक्ष

तेरह मुखी रुद्राक्ष साक्षात स्वर्ग के राजा भगवान इन्द्र देव का स्वरुप है | कामदेव का आशीर्वाद प्राप्त होने के कारण से इसके धारण करने से सभी प्रकार की कामनाएँ पूर्ण होती हैं |

तेरह मुखी रुद्राक्ष के लाभ

तेरह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से दरिद्रता का नाश होकर सभी प्रकार के भोगों की प्राप्ति होती है | सिद्धि साधना के लिए भी यह रुद्राक्ष उपयुक्त माना गया है | यह स्त्री-पुरुष को अपनी ओर आकर्षित करने का सामर्थ्य रखता है इसलिए वशीकरण में भी सहायक माना गया है | गृहस्थ सुख में भी लाभ होता है | तेरह मुखी रुद्राक्ष को ग्रहों को अनुकूल करने के लिए भी धारण किया जाता है | महालक्ष्मी जी की कृपा भी प्राप्त होने के कारण से शुक्र ग्रह पर इसका विशेष प्रभाव माना गया है | भगवान इन्द्र को स्वर्ग का शासन पुनः प्राप्त करने में भी तेरह मुखी रुद्राक्ष का प्रभाव था एैसा कई ग्रंथों में विवरण मिलता है | उच्च पद पर काम करने वाले या कला के क्षेत्र में काम करने वाले सभी जातकों को तेरह मुखी रुद्राक्ष अवश्य धारण करना चाहिए और इसके साथ बारह और चौदा मुखी रुद्राक्ष भी अगर धारण कर लिया जाए तो अति उत्तम फल की प्राप्ति की जा सकती है इसमें कोई अतिशोक्ति नहीं है | महाशिवपुराण के अनुसार कामदेव का रूप होने के कारण से उन सभी लोगों को भी यह रुद्राक्ष धारण करना चाहिए जिनके जीवन में प्यार की या गृहस्थ सुख की कमी हो | निष्कर्ष के फलस्वरूप सभी को यह रुद्राक्ष धारण करना चाहिए और शिव के बीज मंत्र का नियमित पाठ करना चाहिए ताकि अधिक से अधिक लाभ अपने जीवन में प्राप्त किया जा सके |

तेरह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र

इस रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “ॐ ह्रीं नमः” है | इसको धारण करने के पश्चात इसी मंत्र की या “ॐ नमः शिवाय” मंत्र की पांच माला नित्यप्रति जाप करने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है और सभी सुख साधन प्राप्त होते हैं |

To read this article in English, please click 13 Mukhi Rudraksha


*Descriptions for products are taken from scripture, written and oral tradition. Products are not intended to diagnose, treat, cure, or prevent any disease or condition. We make no claim of supernatural effects. All items sold as curios only.

अगर आप तेरह मुखी रुद्राक्ष से सम्बन्धित कोई भी जानकारी हमसे शेयर करना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए कमेन्ट बॉक्स में लिखें |

Leave a comment

शनि कष्टों का निवारण पिप्लादी साधना

ब्रह्माण्ड में शनि ग्रह को सबसे महत्वपूर्ण पद दण्डाधिकारी का पद मिला हुआ है | मनुष्य के पिछले जन्मों के कर्मों का लेखा-जोखा करने के पश्चात व्यक्ति को दुखों रूपी अग्नि में तपाकर कुन्दन बनाने का काम शनि महाराज के अन्तर्गत आता है लेकिन विधाता ने दुखों को कम करने के उपाय भी बताये हैं |

शनि जनित कष्टों से भगवान शिव का नाम ही बचा सकता है इसलिए पिप्लाद भगवान की साधना करने वाले मनुष्यों को शनि भगवान पीड़ा नहीं देते | शनि संकट को दूर करने के लिए ही भगवान शंकर ने पिप्लाद के रूप में जन्म लिया | ऋषि पिप्लाद ब्रह्मा जी के वंशज महर्षि दधीचि जी के सपुत्र थे | जब महर्षि दधीचि ने तीनों लोकों के कल्याण के लिए जीते जी अपनी देह दान करके अपनी हड्डियों को देवराज इन्द्र के सपुर्द किया उस समय दधीचि ऋषि की पत्नी सुवर्चा जंगल में लकड़ियाँ इकट्ठी करने गई हुई थी | जब उन्होंने अपने दिव्य ज्ञान से इस देह दान को देखा व समझा तो मारे गुस्से के अपने द्वारा लाई लकड़ियों की चिता बनाकर बोली कि हे पतिदेव मैं आपको वापिस तो नहीं ला सकती लेकिन आपके पास तो आ सकती हूँ | यह कहकर ज्योंही ऋषि पत्नी ने अपनी चिता को आग लगाई तभी पूरा ब्रह्माण्ड काँपने लगा क्योंकि महर्षि दधीचि और पत्नी सुवर्चा दोनों ही भगवान शिव के परम भक्त थे और देवताओं को भगवान शिव के आश्वासन के फलस्वरूप स्वयं भगवान ही ऋषि पत्नी की कोख में पल रहे थे | उसी समय आकाश से भविष्य वाणी हुई कि हे सुवर्चा तुम्हारे साथ जो हुआ है वह बहुत ही गलत हुआ है लेकिन यह पूरे ब्रह्माण्ड को बचाने के लिए हुआ है | अगर महर्षि दधीचि की हड्डियों से वज्र का निर्माण न होता तो महाबली वृतासुर का वध नहीं होता और सारी सृष्टि पर असुरों का राज हो जाता | इसलिए अपने साथ भगवान शिव के अंश अवतार को मार देना महा पाप है | तब सुवर्चा बोली कि अगर मेरी कोख में भगवान शिव का अंश अवतार पल रहा है तो मैं इसी क्षण उन्हें प्रकट करके अपने प्राण त्याग दूंगी | यह कहते हुए सुवर्चा ने एक नुकीले पत्थर से अपना पेट काटकर बच्चे का जन्म कराया और अपने प्राण त्याग दिये | भगवान शिव का अंश अवतार होने के कारण बालक का शरीर दिव्य तेज से जगमगा रहा था | नीले कंठ पर सर्प लिपटा था | दया का सागर आँखों में हिलोरें ले रहा था | कपूर सी गोरी व सुगन्धित काया से युक्त बालक पीपल के वृक्ष के नीचे पत्थर पर लेटा था | तभी ब्रह्मा जी सहित सभी देवता वहां आ गए और भगवान शिव के अंश अवतार के दर्शन करने लगे | तभी ब्रह्मा जी बोले कि महर्षि दधीचि के पुत्र रूद्र अवतार है और शिव की तरह ही जगत का कल्याण करेंगे | पीपल के वृक्ष के नीचे जन्म होने के कारण ब्रह्मा जी ने रूद्र अवतार का नाम पिप्लाद रखा |

आगे चल कर भगवान शिव के अंश अवतार महर्षि दधीचि के पुत्र महर्षि पिप्लाद ने कठोर तपस्या करके कई सिद्धियाँ हासिल की और शनि देव की शक्तियों पर नियन्त्रण कर लिया | उन्होंने शनि देव से दो संकल्प कराये | पहला बाल अवस्था में किसी मनुष्य को कष्ट नहीं दोगे और दूसरा कि पिप्लादी साधना करने वालों को कभी कष्ट नहीं दोगे | महर्षि पिप्लादी की कृपा से शनि देव इस प्रतिज्ञा से बंधे है | शनि का संकट दूर करने के लिए ही भगवान शंकर ने पिप्लाद के रूप में जन्म लिया था | तभी से शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष के समीप भगवान शंकर के अंश अवतार व महर्षि दधीचि के पुत्र महामुनि महर्षि पिप्लाद की साधना करने से शनि संकट रुपी सभी रोग, शोक, दीनता, दुख व दरिद्रता आदि सभी दूर होकर जीवन सफल हो जाता है |

Leave a comment

वेदों का नेत्र ज्योतिष

माँ सरस्वती जी की वन्दना के पश्चात्, ज्योतिष के विषय में इतना बताना चाहूँगा कि ज्योतिष शास्त्र में कल्पना के लिए कोई स्थान नहीं है, यह विशुद्ध विज्ञान है | आज के आधुनिकतम विज्ञान का रहस्य इसके गर्भ से ही निकलता है | ज्योतिष शब्द की व्युत्पति ज्योति से हुई है | ज्योति का अर्थ है प्रकाश | जिस ज्ञान के शब्दों से प्रकाश की किरणें निकलती हों ऐसे शब्दों के सार को ज्योतिष शास्त्र कहा जाता है | आज से सहस्त्रो वर्ष पूर्व ‘श्री सूर्य, भृगु, अत्री कश्यप, बृहस्पति, पाराशर आदि महर्षियों ने लोक कल्याण हेतु इस विद्या को प्रकाशित एवं प्रचलित किया था |
Astrology is a science which has come down to us as a gift from Ancient Rishis.

हिन्दू धर्म में चार वेदों को मान्यता प्राप्त है – ऋग्वेद, सामवेद, अथर्ववेद और यजुर्वेद जिन्हें सभी विद्याओ का मूल माना जाता है | इन्हीं वेदों में से ऋग्वेद के छठे अंग को ज्योतिष कहा गया है इसीलिए ज्योतिष को ज्योतिषामयनं चक्षुः यानि वेदों का नेत्र भी कहा गया है | जिस प्रकार नेत्रों से विभिन्न वस्तुओ की गतिविधियों को देखा जाता है, उसी प्रकार से ज्योतिष शास्त्र द्वारा भूत, भविष्य एवं वर्तमान काल में घटने वाली घटनाओं की जानकारी मिल सकती है | चन्द्रमा की शीतलता के प्रभाव से समुद्र में ज्वार भाटा आता है | सूर्य की गर्मी से कोणार्क में फसलें पकती है यह बात हम सभी जानते हैं | उसी प्रकार से सूर्य, चन्द्र व अन्य ग्रहों का पृथ्वी व पृथ्वी वासियों पर प्रभाव पड़ता है |

ज्योतिष के दो विभाग होते हैं – गणित एवं फलित | गणित द्वारा ब्रह्माण्ड में ग्रहों की स्थिति एवं फलित द्वारा ग्रहों का जीवन पर असर देखा जाता है | इन्सान का जीवन और सुख दुख, इनका आपस में अटूट रिश्ता है | इस अटूट बन्धन में ज्योतिष का अपना महत्व है यह बात भविष्य पुराण, स्कन्द पुराण, नारद संहिता, वृहद सहिंता आदि ग्रंथों से प्रमाणित होती है | मानव कर्मशील होते हुए ग्रह चाल के अनुसार चलने को विवश है | प्रारब्ध के फल सवरूप मानव को लाभ-हानि, मान-सम्मान, अच्छे बुरे फल भोगने पड़ते है | पिछले 30 वर्षो के अनुसंधान में हमने पाया कि रत्न, रुद्राक्ष एवं मन्त्रों से ग्रहों के शुभ प्रभाव को बढाया एवं अशुभ प्रभाव को कम किया जा सकता है जिससे जीवन में खुशहाली प्राप्त की जा सकती है |

Leave a comment

ब्रह्मूर्त में उठने के लाभ

दिन के चौबीस घन्टों में से वेदाध्ययन, योगाभ्यास, ध्यान, कुण्डलिनी जागरण, आधात्मिक क्रियाओं व् बच्चों की पढाई हेतु यह समय सबसे उपयुक्त है | रात्रि के चतुर्थ पहर में चन्द्रमा की किरणें अमृत कणों से युक्त होने के कारण पृथ्वी पर अमृत रुपी शीतलता प्रदान करती है जो शारीरिक और मानसिक बल प्रदान करती है इसलिए प्रातः 4 बजे से साढ़े पांच बजे तक के समय को अमृत बेला भी कहा गया है | वेदों के अनुसार इस समय को ही ब्रह्म मुहर्त कहा गया है और इस समय उठने वाले पुरुष महिला व बच्चों को शारीरिक व मानसिक रोग दूसरों की अपेक्षा कम पाए जाते है क्योंकि ब्रहम मुहर्त में चल रही वायु में ऑक्सिजन की मात्रा अधिक पाई जाती है | यह बात तो वैज्ञानिक भी मानते हैं |

प्रातः काल हाथ दर्शन एवं स्मरण

अमृत बेला में उठकर सर्व प्रथम अपने दोनों हाथों को सामने से देखते हुए इस श्लोक का पाठ करना चाहिए | कराग्रे वसते लक्ष्मी ; कर मध्य सरस्वती | करमूले स्थिता गौरी प्रभाते कर दर्शनम |

हाथों के अग्र भाग में लक्ष्मी, मध्य भाग में सरस्वती, तथा मूल भाग में मणिबन्ध के पास माँ गौरी निवास करती हैं | हाथों को कर्मों का प्रतीक रूप माना गया है और कर्मों को सम्पन करने में माँ लक्ष्मी एवं माँ सरस्वती अर्थात धन एवं बुद्धि यानि ज्ञान की महत्वपूर्ण भूमिका होती है | ज्ञान और लक्ष्मी की प्राप्ति के लिए हमारे हाथों से समस्त क्रियाएँ हों यही भावना मन में धारण करके प्रात कर दर्शन का विधान तय हुआ है | इस के इलावा भाग्य को प्राप्त करने के लिए भी इन्हीं हाथों द्वारा कर्मों को करने की आवश्यकता होती है | अतः अमृत बेला में यानि प्रात उठकर कर दर्शन के पश्चात् हाथों को अपने मस्तक पर लगा कर हमें अपना दिन प्रारम्भ करना चाहिए |

Posted on 1 Comment

12 Mukhi Rudraksha

12 Mukhi Rudraksha is the symbol of Lord MahaVishnu. The glory of all 12 Adityas is contained in this bead so the wearer is entitled to the special grace of Lord Surya (Sun).

Benefits of 12 Mukhi Rudraksha

As mentioned in various Ancient Texts, by simply wearing it, one can be liberated from incurable and terrible diseases. 12 Mukhi Rudraksha is considered to be helpful in heart diseases, stomach diseases and brain diseases as mentioned in our Texts. This bead should be worn around the neck or in the ear coil (Kundal). This gladdens both Lord Vishnu and Lord Surya. The blessings of all 12 Adityas are in this bead so the wearer receives the beneficial fruits of many Yagyas along with the Ashvmegh Yagya. 12 Mukhi Rudraksha helps in improving physical and mental health and it produces a special kind of power in the wearer’s body. This bead is best suited for people who are engaged in politics and people who work in the government. It is written in our Ancient Texts that sinners who were engaged in deadly sins like cow slaughter or theft of gems & jewels may receive the blessings of Lord Surya and maybe liberated from their sins by wearing the 12 Mukhi Rudraksha. This bead destroys all disorders, defeats the enemies of the wearer, removes the malefic effects of unfavourable planets and provides all kinds of pleasures to the wearer. That is why everyone should wear it.

Mantra for wearing 12 Mukhi Rudraksha

The mantra to wear this bead is “OM KROM SHROM ROM NAMAH”. Enchant 3 rosaries of the before mentioned mantra or 5 rosaries of “OM NAMAH SHIVAYA” or 1 rosary of Mritanjay mantra everyday to get rid of all kinds of problems and diseases so we request all to wear the symbol of Lord Vishnu and Lord Surya – the 12 Mukhi Rudraksha.

यह लेख हिन्दी में पढने के लिए क्लिक करें बारह मुखी रुद्राक्ष |


*Descriptions for products are taken from scripture, written and oral tradition. Products are not intended to diagnose, treat, cure, or prevent any disease or condition. We make no claim of supernatural effects. All items sold as curios only.

If you would like to share anything else regarding 12 Mukhi Rudraksha, please feel free to write in the comments sections below.

3 Comments

बारह मुखी रुद्राक्ष

बारह मुखी रुद्राक्ष भगवान महाविष्णु का स्वरुप माना गया है | बारह आदित्यों का तेज इस रुद्राक्ष में सम्माहित है इसलिए भगवान सूर्य देव की विशेष कृपा का भी पात्र है यह रुद्राक्ष |

बारह मुखी रुद्राक्ष के लाभ

इसको धारण करने मात्र से असाध्य व भयानक रोगों से मुक्ति मिलती है | ह्रदय रोग, उदार रोग व मस्तिष्क से सम्बन्धित रोगों में इस रुद्राक्ष को धारण करने से लाभ हो सकता है ऐसा कई ग्रन्थों में लिखा मिलता है | बारह मुखी रुद्राक्ष को कंठ में या कान के कुण्डल में धारण करने से भगवान विष्णु व सूर्य देव दोनों ही अति प्रसन्न होते हैं | इस रुद्राक्ष को द्वादश आदित्यों की कृपा प्राप्त होने से अश्वमेघ यज्ञ सहित कई यज्ञों का फल प्राप्त होता है | बारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने से तन और मन स्वस्थ होते हैं और एक विशेष प्रकार की शक्ति उत्पन्न होती है | राजनीति व सरकारी क्षेत्रों में काम करने वाले जातकों के लिए बारह मुखी रुद्राक्ष अति उत्तम माना गया है | गोवध करने वाले पापी व रत्नों की चोरी करने जैसे महापाप में भी इस रुद्राक्ष के धारण करने से भगवान सूर्य की कृपा प्राप्त होती है और पापों से व्यक्ति मुक्त हो जाता है एैसा हमारे ग्रन्थों में कहा गया है | यह रुद्राक्ष क्षत्रुओं का नाश करके व्याधियों का नाश करके सूर्य आदि ग्रहों के कमज़ोर प्रभाव को नष्ट करके सभी प्रकार के सुखों की प्राप्ति करवाता है इसलिए इस रुद्राक्ष को सभी को धारण करना चाहिए |

बारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र

इस रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “ॐ क्रोम श्रोम रोम नमः” है | इस मंत्र की तीन माला या “ॐ नमः शिवाय” मंत्र की पांच माला या मृत्युंजय मंत्र की एक माला नित्य प्रति करने से समस्त प्रकार के रोगों से व समस्याओं से मुक्ति प्राप्त की जा सकती है और लाभान्वित हुआ जा सकता है अतः सभी को भगवान सूर्य और भगवान विष्णु के स्वरुप रूपी बारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए |

To read this article in English, please click 12 Mukhi Rudraksha


*Descriptions for products are taken from scripture, written and oral tradition. Products are not intended to diagnose, treat, cure, or prevent any disease or condition. We make no claim of supernatural effects. All items sold as curios only.

अगर आप बारह मुखी रुद्राक्ष से सम्बन्धित कोई भी जानकारी हमसे शेयर करना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए कमेन्ट बॉक्स में लिखें |

Posted on 3 Comments

11 Mukhi Rudraksha

11 Mukhi Rudraksha is the symbol of the 11 Rudras of Lord Shiva. This is considered as the best Rudraksha to get the grace of Lord Shiva.

Benefits of 11 Mukhi Rudraksha

According to MahaShivPuran, one should wear this bead in the crest(Shikha) or around the neck. By wearing it and by energizing it with Mantras, it is possible to get the benefits of Ashvmegh Yagya. 11 Mukhi Rudraksha is best suited for traders and businessmen. One should definitely wear this bead to increase wealth, growth, luck and honor. As 11 Mukhi Rudraksha is the form of Ekadas Rudra, it is very helpful in curing diseases and also helps the wearer in religious rituals and worship. The wearer of this bead always triumphs in all political and diplomatic areas. 11 Mukhi Rudraksha is considered as a successful and the best Rudraksha so all people who worship Lord Hanuman and all people who are engaged in business should definitely wear this bead.

Mantra for wearing 11 Mukhi Rudraksha

The mantra to wear this bead is “OM HREEM HUM NAMAH”. After wearing it, one should enchant 5 rosaries of “OM NAMAH SHIVAYA” or the above written Mantra or one can also enchant 1 rosary of Mritanjay Mantra so that the wearer will get the blessings of the loyal devotee of Lord Ram i.e Lord Hanuman along with the blessings of the Eleven Rudras of Lord Shiva. One should wear this bead by stringing it in a 5 Mukhi mala as a Sumeru (Center bead) as this is considered as the best way to wear a 11 Mukhi Rudraksha.

यह लेख हिन्दी में पढने के लिए क्लिक करें ग्यारह मुखी रुद्राक्ष |


*Descriptions for products are taken from scripture, written and oral tradition. Products are not intended to diagnose, treat, cure, or prevent any disease or condition. We make no claim of supernatural effects. All items sold as curios only.

If you would like to share anything else regarding 11 Mukhi Rudraksha, please feel free to write in the comments sections below.

1 Comment

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष

भगवान शंकर जिनके अक्ष की आंसू से रुद्राक्ष उत्पन्न हुआ है उन्हीं भगवान शिव के ग्यारह रुद्रों का प्रतीक है ग्यारह मुखी रुद्राक्ष | इसके धारक को भगवान शंकर की कृपा पाने के लिए सबसे उत्तम रुद्राक्ष माना गया है |

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष के लाभ

महाशिवपुराण के अनुसार इस रुद्राक्ष को शिखा में बांधना चाहिए या गले में धारण करना चाहिए | इसको धारण करने से और इसके ऊपर मन्त्रों के जाप करने से धीरे धीरे अश्व्मेघ यज्ञ का फल भी प्राप्त हो सकता है | व्यापारियों के लिए ग्यारह मुखी रुद्राक्ष अति उत्तम फल प्रदान करने वाला माना गया है | भाग्य वृद्धि और धन सम्पत्ति व् मान सम्मान की प्राप्ति के लिए इसे अवश्य धारण करना चाहिए | साक्षात एकादस रूद्र रूप होने से यह जातक को रोग मुक्त करने में भी सहायक होता है और धार्मिक अनुष्ठान, पूजा पाठ में भी उत्तम फल प्रदान करने वाला होता है | राजनीति, कूटनीति व् हर प्रकार के क्षेत्र में ग्यारह मुखी रुद्राक्ष का धारक सर्वत्र विजय होता है | यह एक सफल एवं उत्तम रुद्राक्ष माना गया है इसलिए हनुमान जी की उपासना करने वाले एवं व्यापार करने वाले हर व्यक्ति को इस रुद्राक्ष को अवश्य धारण करना चाहिए |

ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र

इस रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “ॐ ह्रीं हूं नमः” है | इसको धारण करने के पश्चात नित्य प्रति पांच माला “ॐ नमः शिवाय” या तीन माला ऊपर लिखे हुए मंत्र की या एक माला मृत्युंजय मंत्र की जाप करनी चाहिए ताकि भगवान शिव के ग्यारह रुद्रों सहित मर्यादा पुरषोत्तम प्रभु श्री राम जी के अनन्य भक्त श्री हनुमान जी की भी कृपा प्राप्त की जा सके | पांच मुखी रुद्राक्ष की माला में ग्यारह मुखी रुद्राक्ष को सुमेरु के रूप में लगाकर धारण करना अति उत्तम कहा गया है |

To read this article in English, please click 11 Mukhi Rudraksha


*Descriptions for products are taken from scripture, written and oral tradition. Products are not intended to diagnose, treat, cure, or prevent any disease or condition. We make no claim of supernatural effects. All items sold as curios only.

अगर आप ग्यारह मुखी रुद्राक्ष से सम्बन्धित कोई भी जानकारी हमसे शेयर करना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए कमेन्ट बॉक्स में लिखें |