Posted on

दो मुखी रुद्राक्ष

दो मुखी रुद्राक्ष सीधे सीधे भगवान शिव और माँ पारवती का स्वरुप है | इसे अर्धनारीश्वर का स्वरुप भी कहा गया है | इस रुद्राक्ष को धारण करने से शिव और शक्ति का आशीर्वाद प्राप्त होता है | वैसे तो इस रुद्राक्ष की उत्पति नेपाल, इंडोनेशिया व् भारत में कई स्थानों पर होती है लेकिन नेपाल का दो मुखी रुद्राक्ष सबसे श्रेष्ठ माना गया है |

दो मुखी रुद्राक्ष के लाभ

इसके धारक का क्षेत्र में सम्मान बढ़ता है, रूप, सौंदर्य अवं वाक्शक्ति की वृद्धि करता है | पति पत्नी के आपसी मतभेदों को कम करके ग्रहस्थ सुख की बढ़ोतरी करता है | इसके धारण से भूत प्रेत की बाधा भी दूर होती है और सभी प्रकार की इच्छाएँ धीरे धीरे पूर्ण होने की ओर बढ़ने लगती हैं | दो मुखी रुद्राक्ष का धारक महाशिवपुराण के अनुसार ब्रह्म हत्या एवं गाए हत्या के पाप से भी मुक्त हो सकता है | दो मुखी रुद्राक्ष भगवान चन्द्र देव के अधिकार क्षेत्र में आता है | इसके धारण करने से मन में चन्द्रमा की चांदनी जैसी शीतलता प्रदान होती है | मनुष्य ने जीवन में कई प्रकार के अगर पाप भी किए हों और अंतिम अवस्था में अगर दो मुखी रुद्राक्ष धारण किया हो तो जीवन में पापी होने के बावजूद मरणोपरांत स्वर्ग की प्राप्ति होती है इसलिए हर जन को अर्धनारीश्वर स्वरुप भगवान शिव और शक्ति के आशीर्वाद के रूप में नेपाली दो मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए |

दो मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र

दो मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “ॐ नमः”, “ॐ नमः शिवाय” और “ॐ नमः दुर्गाए” है | “ॐ अर्ध्नारिश्वराए नमः” इस सर्वश्रेष्ठ मंत्र को अगर 5 माला रोज़ कर लिया जाए तो शिव और माँ पारवती की विशेष कृपा होने लग जाती है |

To read this article in English, please click 2 Mukhi Rudraksha


*Descriptions for products are taken from scripture, written and oral tradition. Products are not intended to diagnose, treat, cure, or prevent any disease or condition. We make no claim of supernatural effects. All items sold as curios only.

अगर आप दो मुखी रुद्राक्ष से सम्बन्धित कोई भी जानकारी हमसे शेयर करना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए कमेन्ट बॉक्स में लिखें |

13 thoughts on “दो मुखी रुद्राक्ष

  1. दो मुखी रुद्राक्ष को धारण करने की विधि बताने की कृपा करें ।
    मेरी पत्नी अक्सर घर में झगडा करती हे कुछ समाधान बताएं में बहुत परेशान हूँ ।

    1. घर के बाहर ऊतर दिशा की ओर एक मिट्टी के पात्र को हमेशा पानी से भरकर रख दिया करे 100% झगड़ा बहुत कम होकर सुख और सान्ती हो जाएगी

    2. kya pechan hai iske sir ji Amit Sagar Dirst. Bulandshahr

  2. Aacharya ji mere pass 2 mukhi rudaraksh hai.. Main usye kb aOr kese dhaaran kru… Mera janam 10 december 1990 ko raat k 8:57 pm pr hua hai…rudrarksh dhaaran krne k baad kya mere bigde huye Kaam safal ho jayenge..

  3. 2 mukhi rudraksh asli h ya nakli kaise pta chelega

  4. assli ki pehchan kya h 2 mukhi rudraksh ki

  5. 2 mukhi rdraksh asli h is ki pehchan kya h
    plz sir contact no. pe btaye plz sir 9520341200

  6. दो मुखी रूद्राक्ष की किमत कितनी है ,कैश ऑन डिलिवरी की सुविधा है।

  7. PANDIT G APKE CHARNO ME MERA NAVSKAR MUJHASE LOG CHIDATE HAI ME EK SUKI LAKADI KI TAREH HO GAYA HO ME KESE SAHI RAHE PAUNGA MERA DIMAG TENTION ME REHETA HAI BIMAR RHETA HO MERI DOKAN ME DIN PE DIN GHATA JA RAHA HAI DO MUKHI RUDDRASKSH KO KESE GALE ME DHARAD KARE KON SE DIN KARE OR KESE DHAGE ME DHARAD KARE DO MUKHI RUDDRAKSH SE HAM KESE LABH LE PAYENGR KOE UPAY BATAO

  8. hamari arthik sthiti theek nahi hai bibi bachcho ki taviyat theek nahi hai kripya up at batao meri date of birth 11 December 1980rat 11:30

  9. Sir meri kundali nhi hai ,main nhi janta ki meri kundali me chandra nich ka hai ya uch ka,agar nich ka v ho to main do mukhi rudraksh dharan kar sakta hu kya??mai bahut tanav me rahata hu,mann me. shanka rahti hai ,pet thik nhi rahta hai,hridaya v kamjor hai kya karu??

  10. Acharya g pranam muje Do mukhi rudraksh dharan Karna bataya h kripaya karke mujhe Do mukhi rudraksh ki pahchan kimat & dharan Karen ki vidhi bataye

  11. Me apni patni ki vartan vyvhar or useki femili se bahot paresan hu gaya hu or me use pare sani ki vajah se susaid karne tak pohach gaya hu or vo talak bhi nahi de rahi he me kya karu padit jii………pls Me apni patni se talak lena chahta hu or wo sahmat nahi he padit ji pls muje bataeye varna me mar jawunga muje jalldi bataeye pls pls pls …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *