तीन मुखी रुद्राक्ष

Posted by Acharya Anil Johri on October 28, 2014  /   Posted in Rudraksha

तीन मुखी रुद्राक्ष को अग्नि देव का स्वरुप माना गया है | जिस प्रकार अग्नि स्वर्ण को भी शुद्ध कर देती है उसी प्रकार अग्नि का स्वरुप होने के कारण यह रुद्राक्ष शरीर को शुद्ध करने में सहायक होता है |

तीन मुखी रुद्राक्ष के लाभ

जिस व्यक्ति का मन किसी काम में ना लगता हो या जीवन जीने का आनन्द समाप्त हो चुका हो, शरीर किसी न किसी प्रकार के बुखार से पीड़ित रहता हो, भोजन खाने पर पेट की अग्नि मंद होने के कारण से भोजन के ना पचने के रोग में यह रुद्राक्ष अत्यधिक लाभदायक साबित होता है | अग्नि को तीव्र करके पाचक क्षमता बढ़ने से चेहरा पे तेज एवं शौर्य एवं बल की प्राप्ति कराता है | सभी प्रकार की आपदाओं से मुक्त कराने में तीन मुखी रुद्राक्ष अच्छा काम करता है | नौकरी करने वाले और पेट से सम्बंधित कष्ट पाने वालों के लिए यह रुद्राक्ष अत्यंत लाभदायक है | ग्रंथों के अनुसार तीन मुखी रुद्राक्ष धारण करने से नारी हत्या के पाप से भी मुक्ति मिलनी संभव हो सकती है |

तीन मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र

वैसे तो तीन मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “ॐ क्लीम नमः” है लेकिन तीन या पांच माला “ॐ नमः शिवाय” की जपने से यह रुद्राक्ष पूर्ण प्रभाव व्यक्ति को दिखाते हुए, शुद्ध एवं सात्विक करके एैश्वर्य की वृद्धि कराता है इसलिए हर जन को अग्नि देव के स्वरुप तीन मुखी रुद्राक्ष को धारण करके अपना कल्याण करना चाहिए |

To read this article in English, please click 3 Mukhi Rudraksha


*Descriptions for products are taken from scripture, written and oral tradition. Products are not intended to diagnose, treat, cure, or prevent any disease or condition. We make no claim of supernatural effects. All items sold as curios only.

अगर आप तीन मुखी रुद्राक्ष से सम्बन्धित कोई भी जानकारी हमसे शेयर करना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए कमेन्ट बॉक्स में लिखें |

The following two tabs change content below.

Acharya Anil Johri

Astrologer & Gem Therepist at Rudra Gems
World renowned Astrologer and Gem Therapist. I don't guide people for money only, Astrology is a vast science and I want to use it for the welfare of whole mankind.

About Acharya Anil Johri

World renowned Astrologer and Gem Therapist. I don't guide people for money only, Astrology is a vast science and I want to use it for the welfare of whole mankind.

7 Comments

  1. Amit Kumar Diwedi June 27, 2015 5:17 pm / Reply

    pahchan, prayog, aur bidhi

  2. TRILOK March 7, 2016 2:20 pm / Reply

    Guru ji

    Maine baba ji se teen mukhi rudraksh liya tha jo ki lete bakt maine bhi dhyan nahi diya wo thoda khandit tha yane uska bhich main se jo ubhra hua bhag hota hai wo toota hua tha jo mujhe baba ji ne diya hai, So kripya karke batayen kya main ese dharan karoon ya nahi

  3. Ashokkumar December 8, 2016 3:21 pm / Reply

    Guru ji
    Teen mukhi ko lash Payne day$night ko

  4. ojasvi January 26, 2017 8:49 pm / Reply

    Babaji vrasabh rashi ke log bhi teenmukhi rudraksha pehan sakte h. Or ise kis samaye pehnna h. Or kis dhatu me pehnna hai.

  5. nisha January 26, 2017 8:57 pm / Reply

    Babaji vrasabh rashi ke log bhi teenmukhi rudraksha pehan sakte h.or ise kis samaye dharan kar sakte h.or kis dhatu me.

  6. D.R.tharu March 21, 2017 12:42 pm / Reply

    Meri kumbo. Rashi ha

  7. D.R.tharu March 21, 2017 12:48 pm / Reply

    MUJHE KAUNSA RUDRAKSH CHALEGA MERA KOI KAM NAHI BANTA PET OUR HEART KI TAKLIF HAI.

Post a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*